सफाई के नाम हर महीने 50 हजार खर्च, नहीं बदले हालात

गुना. शहर को एक ओर जहां मिनी स्मार्ट सिटी बनाने का दावा किया जा रहा है, लेकिन दूसरे तरफ पॉश कालोनियों में बुनियादी सुविधाएं तक नहीं हैं। पत्रिका ने नगर पालिका परिषद के वार्ड ३ की पड़ताल की तो स्थिति बेहद चौकाने वाली मिली। वार्ड में दुर्गा कालोनी, त्रिमूर्ति कालोनी मुख्य रूप से आती हैं, लेकिन इन कालोनियों में नाली का निर्माण नहीं हो सका है। मकानों का गंदा पानी और कचरा खाली प्लाटों में डाला जा रहा है।
वार्ड में कचरा संग्रहण करने के भी इंतजाम नहीं हुए हैं। इस वार्ड में ७८८० मतदाता हैं, इसके बाद भी नपा परिषद द्वारा बुनियादी सुविधाएं दुरुस्त नहीं की जा रही हैं। रहवासियों ने बताया, दुर्गा मंदिर के पीछे गली में बारिश का पानी भर जाता है। पानी के भी इंतजाम नहीं हैं। कई जगह नाली खुली पड़ी हैं। वाहनों के फंसने और गिरने का भय बना रहता है।
वार्ड में डस्टबिन भी नहीं रखे 
नपा ने वार्ड तीन में कचरा एकत्रित करने के लिए डस्टबिन भी नहीं रखे हैं। इसके अलावा कचरा एकत्रित करने भी कोई व्यवस्था नहीं है। वार्ड में ड्रेनेज सिस्टम नहीं हैं। बारिश में लोगों को भारी असुविधा का सामना करना पड़ता है। जैन मंदिर के पास पार्क की खाली जगह पड़ी है। अतिक्रमण की संभावना है, लेकिन पार्क निर्माण नहीं कराया।
ये हैं प्रमुख समस्याएं
– पानी निकासी के लिए वार्ड में कोई व्यवस्था नहीं है।
– साफ सफाई नियमित रूप से नहीं हो रही है। सडक़ पर कचरा है।
– खाली प्लाटों में मकानों का गंदा पानी छोड़ा जा रहा है। इससे मच्छर पनप रहे हैं।
– शहर में सडक़ का निर्माण नहीं हो सका है। इस कारण से लोगों को निकलने में दिक्कत हो रही है।
– कालोनी में नाली का निर्माण नहीं हो सका है।
– मुख्य मार्गों पर ही कचरे के ढेर लगे हैं। वार्ड में सफाई नहीं होने से वार्ड सुंदर नहीं हो पा रहा है।
वार्ड में पानी की व्यवस्था नहीं है। ट्यूबवेल पर ही पूरा वार्ड निर्भर है। पानी का ऐसा कोई स्त्रोत नहीं है, जिससे लोगों की समस्या दूर हो। पार्क का निर्माण नहीं कराया जा रहा है। ड्रेनेज सिस्टम विकसित नहीं हो सका है। पानी निकास की व्यवस्था नहीं है। कचरा गाड़ी मेरे वार्ड में नहीं आती। मैंने न्यूसेंस का केस लगाया, उस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.